2/28/2009

कोई दीप जलाया होगा

गीत उल्फत का किसी और ने गाया होगा,
हादसों ने तुम्हें रातों में जगाया ह¨गा ।

आज फिर रहनुमाओं की झुकी-झुकी नज़रें,
आज फिर आदमी ने सर को उठाया होगा ।

रोशनी के लिए ताउम्र तरसता ही रहा,
उसने बस्ती में कोई दीप जलाया होगा ।

हरेक वक्त जो अपनों से रहा खौफ़ जदा,
वो मेरी मुल्क की तकदीर का साया होगा ।

शिवालयों में जिसने ढूँढा है हर बार खुदा,
उसने भगवान को अज़ान में पाया होगा ।

गोलियाँ सरहदों पे आज फिर चलीं ‘आशीष’
गु़फ्तगू करने को जालिम ने बुलाया होगा ।
-----


आशीष दशोत्तर ‘अंकुर’ की एक गजल

यदि कोई कृपालु इस सामग्री का उपयोग करें तो कृपया इस ब्लाग का सन्दर्भ अवश्य दें । यदि कोई इसे मुद्रित स्वरूप प्रदान करें तो कृपया सम्बन्धित प्रकाशन की एक प्रति मुझे अवश्य भेजें । मेरा पता है - विष्णु बैरागी, पोस्ट बाक्स नम्बर-19, रतलाम (मध्य प्रदेश) 457001


कृपया मेरे ब्लाग ‘एकोऽहम्’ http://akoham.blogspot.com भी नजर डाले।

4 comments:

  1. आज फिर रहनुमाओं की झुकी-झुकी नज़रें,
    आज फिर आदमी ने सर को उठाया होगा ।
    बहुत ही सुंदर और काबिल गजल है। और यह शेर तो बहुत ही उम्दा है। बधाई! बैरागी जी, इतनी खूबसूरत गजल पढ़वाने और एक गजलकार से मिलवाने का।

    ReplyDelete
  2. आज फिर रहनुमाओं की झुकी-झुकी नज़रें,
    आज फिर आदमी ने सर को उठाया होगा ।
    बहुत बढ़िया गजल पेश किया है आपने । गजल की हर लाईन लाजबाब है धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. आज फिर रहनुमाओं की झुकी-झुकी नज़रें,
    आज फिर आदमी ने सर को उठाया होगा ।
    बहुत बढ़िया गजल पेश किया है आपने । गजल की हर लाईन लाजबाब है धन्यवाद

    ReplyDelete

अपनी अमूल्य टिप्पणी से रचनाकार की पीठ थपथपाइए.