3/28/2009

आओ कुछ करें

रास्ता सुनसान, आओ कुछ करें,
मुसीबत में जान, आओ कुछ करें ।

एक भी होता शज़र तो ठीक था,
सामने मैदान आओ कुछ करें ।

बात होठों पर कोई आती नहीं,
दिल में इक तूफान आओ कुछ करें ।

सत्य अंधियारे में दम है तोड़ता,
झूठ सरेआम आओ कुछ करें ।

साज़िशों के बीच ‘आशीष’ है नहीं,
खो गया इंसान आओ कुछ करें ।
-----



आशीष दशोत्तर ‘अंकुर’ की एक गजल



यदि कोई कृपालु इस सामग्री का उपयोग करें तो कृपया इस ब्लाग का सन्दर्भ अवश्य दें । यदि कोई इसे मुद्रित स्वरूप प्रदान करें तो कृपया सम्बन्धित प्रकाशन की एक प्रति मुझे अवश्य भेजें । मेरा पता है - विष्णु बैरागी, पोस्ट बाक्स नम्बर-19, रतलाम (मध्य प्रदेश) 457001

कृपया मेरे ब्लाग ‘एकोऽहम्’ http://akoham.blogspot.com भी नजर डालें।

3 comments:

  1. बहुत सही बात कही है सून्दर प्रयास।

    ReplyDelete
  2. KHUBSURAT KHAYAAL KE SAATH KAHI GAI GAZAL HAMESHAA HI KHUBSURAT AUR UMDA BAN PADATI HAI... KAHAN ACHHE HAI... BADHAAEE

    ARSH

    ReplyDelete
  3. सत्य अंधियारे में दम है तोड़ता,
    झूठ सरेआम आओ कुछ करें ।

    साज़िशों के बीच ‘आशीष’ है नहीं,
    खो गया इंसान आओ कुछ करें ।
    -----
    वाह बहुत खूब ।

    ReplyDelete

अपनी अमूल्य टिप्पणी से रचनाकार की पीठ थपथपाइए.