12/08/2008

।। अवसर ।।







।। अवसर ।।





कभी हम परखते उसे



अपनी कसौटी पर ।



कभी लगती मरुभूमि



और हम भटकते मुसाफिर से



कभी ठण्डे झोंके की तरह



और हम महसूसते उसका अस्तित्व



पकड़ने की चाहत में



हाथ से फिसलती जिन्दगी



और हम ठगे से तकते उसे



करीब से गुजरते हुए ।



-----




‘सपनों के आसपास’ शीर्षक काव्य संग्रह से पंकज शुक्ला ‘परिमल’ की एक कविता


यदि कोई कृपालु इस सामग्री का उपयोग करें तो कृपया इस ब्लाग का सन्दर्भ अवश्‍य दें । यदि कोई इसे मुद्रित स्वरूप प्रदान करें तो कृपया सम्बन्धित प्रकाशन की एक प्रति मुझे अवश्‍य भेजें । मेरा पता है - विष्‍णु बैरागी, पोस्ट बाक्स नम्बर-19, रतलाम (मध्य प्रदेश) 457001



कृपया मेरा ब्लाग ‘एकोऽहम्http://akoham.blogspot.com/ भी पढें ।

8 comments:

  1. aapki blog pe pahali dafa aaye bahot hi umda kavita padhane ko mila .. bahot hi khub likha hai aapne .... sath hi aapka mere blog pe bahot hi swagat hai, aapka sneh nirantar bana rahe yahi ummid karta hun ... is jahrili duniya me ..........

    ReplyDelete
  2. हिन्दी लिखाड़ियों की दुनिया में आपका हार्दिक स्वागत है, खूब लिखें नाम कमायें । हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. इसे पढाने के लिये हम सब तक पहुचने के लिये आप का धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. आपने बहुत अच्छा लिखा है ।
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
    www.zindagilive08.blogspot.com
    आर्ट के लि‌ए देखें
    www.chitrasansar.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. कम शब्दों की सशक्त व सार्थक रचना है आपकी !
    आशा है आगे भी ऐसी ही उद्देश्यपूर्ण रचनाएं पढने को मिलेंगी !!

    मेरी शुभकामनाएं !!!

    ReplyDelete
  6. बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
    हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
    टेम्पलेट अच्छा चुना है
    कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें
    कृपया मेरा भी ब्लाग देखे और टिप्पणी दे
    http://www.ucohindi.co.nr

    ReplyDelete
  7. आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete

अपनी अमूल्य टिप्पणी से रचनाकार की पीठ थपथपाइए.