5/05/2009

करेंगे अब राज वे

देखिये वे आ रहे खूँखार अपनी बस्ती में,
सुना है वे करेंगे व्यापार अपनी बस्ती में ।

आज तो अपनों के मेले, हाट हैं बाज़ार हैं,
देखना कल उनका हाहाकार अपनी बस्ती में ।

बिजली देंगे, पानी देंगे और देंगे खाद वे,
करेंगे अब राज वे मक्कार अपनी बस्ती में ।

जाग जाओ, अब संभलने का समय है आ गया,
गीत गाता फिर रहा फनकार अपनी बस्ती में ।

जाने कब हो जाए दस्तक अब यहाँ सरकार की,
है डरा-सहमा-परेशाँ, हर द्वार अपनी बस्ती में ।
-----



आशीष दशोत्तर ‘अंकुर’ की एक गजल



यदि कोई कृपालु इस सामग्री का उपयोग करें तो कृपया इस ब्लाग का सन्दर्भ अवश्य दें । यदि कोई इसे मुद्रित स्वरूप प्रदान करें तो कृपया सम्बन्धित प्रकाशन की एक प्रति मुझे अवश्य भेजें । मेरा पता है - विष्णु बैरागी, पोस्ट बाक्स नम्बर-19, रतलाम (मध्य प्रदेश) 457001



कृपया मेरे ब्लाग ‘एकोऽहम्’ http://akoham.blogspot.com भी नजर डालें।

3 comments:

  1. बहुत बहुत बहुत बेहतरीन रचना! रचनाकार को बधाई!

    ReplyDelete
  2. आप की रचना प्रशंसा के योग्य है . लिखते रहिये
    चिटठा जगत मैं आप का स्वागत है

    गार्गी
    www.abhivyakti.tk

    ReplyDelete
  3. देखिये वे आ रहे खूँखार अपनी बस्ती में,
    सुना है वे करेंगे व्यापार अपनी बस्ती में ।

    वाह......!!

    बिजली देंगे, पानी देंगे और देंगे खाद वे,
    करेंगे अब राज वे मक्कार अपनी बस्ती में ।
    लाजवाब.....!!

    विष्णु जी आशीष जी की ग़ज़ल बहुत पसंद आई ....शुक्रिया ...!!

    ReplyDelete

अपनी अमूल्य टिप्पणी से रचनाकार की पीठ थपथपाइए.