5/17/2009

ऐसे चन्दन

हमने भी ग़म देखे हैं,
ऐसे मौसम देखे हैं ।

जख्मों को गहरा कर देते,
वो भी मरहम देखे हैं ।

बीच राह में साथ छोड़ दे,
ऐसे हमदम देखे हैं ।

सर्पों को घायल कर देते,
ऐसे चन्दन देखे हैं ।

अपने ही अपनों को काटे,
किस्से हरदम देखे हैं ।

लाचारों से दूर भागते,
जाते, राशन देखे हैं ।

पानी की इक बूँद नहीं है,
वो भी सावन देखे हैं ।

जहां पै ‘अंकुर’ एक नहीं,
ऐसे उपवन देखे हैं ।
-----

आशीष दशोत्तर ‘अंकुर’ की एक गजल

यदि कोई कृपालु इस सामग्री का उपयोग करें तो कृपया इस ब्लाग का सन्दर्भ अवश्य दें । यदि कोई इसे मुद्रित स्वरूप प्रदान करें तो कृपया सम्बन्धित प्रकाशन की एक प्रति मुझे अवश्य भेजें । मेरा पता है - विष्णु बैरागी, पोस्ट बाक्स नम्बर-19, रतलाम (मध्य प्रदेश) 457001


कृपया मेरे ब्लाग ‘एकोऽहम्’ http://akoham.blogspot.com भी नजर डालें।

1 comment:

  1. वाह क्या गजल कही आपने दिल खुश हो गया

    वीनस केसरी

    ReplyDelete

अपनी अमूल्य टिप्पणी से रचनाकार की पीठ थपथपाइए.